उत्तराखंडदेश-विदेश

उत्तराखंडः मानसून सत्र में आठ विधेयक हुए पास

पांच दिन में 28 घंटे 22 मिनट चली सदन की कार्यवाही

देहरादून। उत्तराखंड विधानसभा का मानसून सत्र शांति से संपन्न हो गया। पांच दिन के सत्र के आखिरी वक्त तक सदन की कार्यवाही 28 घंटे 22 मिनट तक चली। विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल ने समापन पर पक्ष विपक्ष के सदस्यों का सहयोग के लिए आभार जताया।

23 अगस्त से आरंभ मानसून सत्र के बाद विस अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल मीडिया से रूबरू हुए। कहा कि सत्र के दौरान सदस्यों को सदन में क्षेत्रीय समस्याएं रखने और उन्हें सरकार तक पहुंचाने के लिए अधिकतम अवसर देने के प्रयास किए गए। जिस पर दोनों ही पक्षों ने गंभीर चिंतन किया। कहा कि सरकार और विपक्ष ने सदन में सकारात्मक भूमिका निभाई।

स्पीकर ने बताया कि पूरे सत्र में सदन को 789 प्रश्न प्राप्त हुए। जिसमें स्वीकार 27 अल्पसूचित प्रश्नों में 8 उत्तरित, 197 तारांकित प्रश्नों में 59 उत्तरित, 496 आताराकिंत प्रश्नों में 267 उत्तरित किए गए। कुल 64 प्रश्न अस्वीकार और 5 विचाराधीन रखे गए। बताया कि 23 याचिकाओं में से सभी स्वीकृत की गई।

वहीं नियम 300 में प्राप्त 108 सूचनाओं में से 21 सूचनाएं स्वीकृत, 25 सूचनाएं ध्यानाकर्षण के लिए, नियम 53 में 70 सूचनाओं में 6 स्वीकृत एवं 21 ध्यानाकर्षण के लिए रखी गई। नियम 58 में प्राप्त 22 सूचनाओं में 20 को स्वीकृत किया गया। नियम 299 में 2 सूचना प्राप्त हुई, जो कि स्वीकृत की गयी,

मानसून सत्र में यह आठ विधेयक हुए पारित

  1. उत्तराखंड विनियोग (2021-22 का अनुपूरक) विधेयक, 2021
  2. आई एम एस यूनिसन विश्वविद्यालय (संशोधन) विधेयक, 2021,
  3. डी आई टी विश्वविद्यालय (संशोधन) विधेयक, 2021
  4. उत्तराखण्ड माल और सेवा कर (संशोधन) विधेयक, 2021
  5. हिमालयन गढ़वाल विश्वविद्यालय (संशोधन) विधेयक, 2021
  6. उत्तराखण्ड फल पौध़शाला (विनियमन) (संशोधन) विधेयक, 2021
  7. उत्तराखंड नगर निकायों एवं प्राधिकरणों हेतु विशेष प्राविधान (संशोधन) विधेयक, 2021
  8. दून इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (डी0आई0एम0एस0) विश्वविद्यालय (संशोधन) , 2021

दो असरकारी विधेयक हुए अस्वीकार

  1. उत्तराखण्ड (उत्तर प्रदेश जमींदारी विनाश और भूमि व्यवस्था अधिनियम, 1950) (संशोधन) विधेयक, 2021
  2. उत्तराखण्ड चार धाम देवस्थानम् प्रबन्धन (निरसन) विधेयक, 2021

निश्चित अवधि में मिला तारांकित प्रश्नों का जवाब

विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद ने कहा कि मानसून सत्र के दौरान 25वीं बार ऐसा हुआ कि प्रश्नकाल में सभी तारांकित प्रश्न निश्चित समायावधि (01 घण्टा 20 मिनट) में उत्तरित हुए। अग्रवाल ने सदन के अंदर बाहर बेहतर इंतजाम एवं अच्छी व्यवस्था के लिए विधानसभा के सभी अधिकारी, कर्मचारियों का धन्यवाद किया। साथ ही स्थानीय शासन, पुलिस का भी आभार जताया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button