उत्तराखंडचारधामदेश-विदेशयात्रा-पर्यटन

चारधामः VIP और VVIP के ‘विशेष दर्शनों’ पर लगी रोक

केदारनाथ में VIP इंट्रेस गेट बंद, आम श्रद्धालुओं की तरह करने होंगे दर्शन

Chardham Yatra 2022: उत्तराखंड के चारधाम बदरीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री की यात्रा के शुरूआत में ही दर्शनार्थियों जबरदस्त आमद से अब तक कि सारे रिकॉर्ड टूटते दिख रहे हैं।

ऐसे में श्रद्धालुओं को दर्शनों में कोई अड़चन न हो, मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने बड़ा फैसला लिया है। उन्होंने तीर्थस्थलों में VIP और VVIP के लिए विशेष दर्शनों पर तत्काल प्रभाव से रोक लगा दी है। केदारनाथ में VIP इंट्रेस गेट बंद कर दिया गया है। अब VIP और VVIP को आम श्रद्धालुओं के साथ ही लाइन में लगकर दर्शन करने होंगे।

सीएम धामी ने कहा कि बड़े से बड़ा शख्स भी होगा, तो उनको भी अब आम श्रद्धालु की भांति तीर्थस्थलों में दर्शन करने होंगे। अफसरों को निर्देशित किया कि वे VIPs और VVIPs के पीछे न लगें। उनकी व्यवस्था में लगकर आम श्रद्धालुओं की दिक्कतों पर से ध्यान न हटाएं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि देश और दुनिया के अनेक हिस्सों से लाखों श्रद्धालु चारधाम दर्शनों को उत्तराखंड आ रहे हैं, वे अपने साथ उत्तराखंड और चारधाम यात्रा से जुड़ी अच्छी याद लेकर लौटें, इसपर विशेष ध्यान दिया जाए। यह भी कि इस बाबत किसी भी तरह की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

बता दें कि केंद्र और राज्य के मंत्रियों, बड़े नौकरशाहों, बड़े उद्यमियों, कारोबारियों और अन्य विशिष्ट दर्शनार्थियों के लिए धामों में दर्शन की विशेष व्यवस्था की जाती रही है। उनको न लाइन में लगना पड़ता है न ही पूजा और अर्चना के लिए देर तक इंतजार करना पड़ता है। कई बड़े श्रद्धालुओं के साथ तो सरकार के आला अफसर भी ड्यूटी पर रहते हैं। इसके चलते वे अपना अन्य सरकारी और लोगों से जुड़े जनहित के कार्यों को नहीं कर पाते हैं।

केदार में विशेश दर्शन बंद
केदारनाथ मंदिर में वीआइपी द्वार से श्रद्धालुओं के प्रवेश पर रोक लगा दी गई है। अब हेली सेवा से पहुंचने वाले श्रद्धालु भी लाइन में लगकर ही बाबा के दर्शन करेंगे। इसके लिए प्रशासन ने बैरिकेडिंग लगाकर मंदिर का वीआइपी प्रवेशद्वार बंद कर दिया है। जिलाधिकारी मयूर दीक्षित के निर्देशों के तहत लाइन में खड़े श्रद्धालुओं को हरहाल में दो घंटे के भीतर दर्शन कराने होंगे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button