चारधाम

Latest News: ‘स्मार्ट स्प्रिचुअल टाउन’ के रूप में संवरेगी ‘बदरीशपुरी’

400 Cr. की महायोजना पर सरकार का फोकस, कंपनियों के CSR फंड से जुटाए 200 करोड़

देहरादून। केदार पुरी के पुनर्निर्माण के बाद अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट के रूप में बदरीश पुरी को भी संवारा जाएगा। सरकार ने इसे स्मार्ट स्प्रिचुअल टाउनशिप के तौर पर विकसित करने के लिए करीब 400 करोड़ की महायोजना का खाका खिंचा है। तीन चरणों में प्रस्तावित महायोजना के लिए 200 करोड़ रुपये जुटाए भी जा चुके हैं। साथ ही प्रस्तावित कार्यों के क्रियान्वयन के लिए प्रोजेक्ट इंप्लीमेंटेशन यूनिट (पीआइयू) की तैनाती भी कर दी गई है।

केदारनाथ में पुनर्निर्माण के प्रथम चरण के कार्यों का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा लोकार्पण और शेष कार्यों के शिलान्यास के बाद अब प्रदेश सरकार बदरीनाथ टाउनशिप को संवारने पर ध्यान केंद्रित कर रही है। पीएम के केदारनाथ दौरे से पूर्व सीएम एक बार बदरीनाथ में महायोजना के प्रस्तावित कामों का निरीक्षण भी कर चुके हैं। पीएम मोदी ने पूर्व में बदरीनाथ महायोजना के लिए निर्देशित किया था।

पीएम का मानना है कि जिस तरह से जिस तरह से आधुनिकता और परंपराओं के समन्यवय से तीर्थ स्थलों को तैयार किया जा रहा है, उसके चलते पर्यटन और तीर्थाटन की दृष्टि से आने वाला दशक उत्तराखंड का होगा। उन्हीं की परिकल्पना का स्वरूप अब बदरीनाथ में भी दिखेगा।

राज्य सरकार ने केदारनाथ की तर्ज पर ही बदरीनाथ के लिए महायोजना बनाई है। पीएमओ में इसका प्रजेंटेशन भी दिया जा चुका है। साथ ही विभिन्न कंपनियों के सीएसआर फंड से करीब दो सौ करोड़ की धनराशि जुटाई भी जा चुकी है। वहीं, प्रोजेक्ट इंप्लीमेंटेशन यूनिट (पीआइयू) को तैनात कर दिया गया है। सरकार नौ विभागों के 22 भवनों को ध्वस्त करने की मंजूरी दे चुकी है।

सचिव पर्यटन दिलीप जावलकर के अनुसार बदरीनाथ धाम को स्मार्ट स्प्रिचुअल टाउन के रूप में विकसित करने की दिशा में तेजी से कदम बढ़ाए जा रहे हैं। महायोजना के मुताबिक बदरीनाथ धाम में मंदिर के चारों तरफ जगह खुली रखी जाएगी। इसके लिए अगल-बगल के भवनों को हटाया जाएगा। यात्रियों के लिए वनवे सिस्टम, बदरी व शेषनेत्र झील का सौंदर्यीकरण, अतिरिक्त पुल, अस्पताल का विस्तारीकरण, बहुद्देश्यीय आगंतुक भवन, रिवर फ्रंट डेवलपमेंट, स्ट्रीट स्कैपिंग, मंदिर व घाट का सौंदर्यीकरण, बदरीश वन, पार्किंग जैसे कार्य महायोजना में प्रस्तावित हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button